ज्ञान

सर्वोपरि क्षत्र है, सहस्त्र कोटि लिप्त ज्ञान।

अंतहीन अविरत है, संसार से बृहदद ज्ञान।

सुगम प्राप्ति निषेध है, करुणापूर्वक अनुसंधान ज्ञान।

काल विसंगत अनाश्रित है, विषिष्ट आचरण चित्र ज्ञान।

Leave a Reply